Please wait...

Steps in Financial Planning

‘Hi, I came across this really nice video on the Franklin Templeton website. Check it out!’

Financial planning consists of six key steps - establishing financial goals, gathering relevant information, analysing the situation, developing a plan for achieving goals, implementing the plan and lastly monitoring the plan. Before developing a financial plan, it is very important to have a thorough discussion with the investor to understand his needs, preferences and psychological makeup so as to crystallise the six steps. Watch this video to understand this in further detail.

फायनांशियल प्लानिंग में मुख्य छ: कदम होते हैं- फायनांशियल लक्ष्य निर्धारित करना, संबंधित जानकारी प्राप्त करना, स्थिति की गहराई से छानबीन करना, लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए एक प्लान बनाना, प्लान पर अमल करना और अंत में प्लान पर निगरानी रखना. फायनांशियल प्लान बनाने से पहले यह बहुत ज़रूरी होता है कि निवेशक के साथ उसकी ज़रूरतों प्राथमिकताओं और मनोवैज्ञानिक धारणाओं पर गंभीरता से चर्चा की जाए. जिससे ये छ: कदम बिल्कुल स्पष्ट रहें. इस वीडियो से इन बातों को और अच्छी तरह समझने में मदद मिलेगी.

ફાઈનાન્શિયલ પ્લાનિંગના મુખ્ય છ સ્ટેપ્સ છે - આર્થિક લક્ષ્ય નિર્ધારિત કરવું, સુસંગત માહિતી મેળવવી, પરિસ્થિતિનું વિશ્લેષણ કરવું, લક્ષ્ય સિદ્ધ કરવા યોજના તૈયાર કરવી, યોજનાનો અમલ કરવો અને છેલ્લે યોજનાનું નિરીક્ષણ કરવું. આર્થિક યોજના તૈયાર કરતા પહેલા રોકાણકાર સાથે વિસ્તૃત ચર્ચા કરવી અગત્યનું છે, જેથી તેની જ‚રિયાતો, પસંદગીઓ અને માનસિક તૈયારી વિશે જાણી શકાય અને આ છ સ્ટેપ્સને નિશ્ર્ચિત સ્વરૂપ આપી શકાય. આને વિગતવાર સમજવા આ વીડિયો જુઓ.

আর্থিক পরিকল্পনায় আছে ছয়টি মুখ্য ধাপ - আর্থিক লক্ষ্য নির্ণয়, প্রাসঙ্গিক তথ্য জোগাড়, পরিস্থিতির বিশ্লেষণ, লক্ষ্যপূরণের জন্য একটি পরিকল্পনা গঠন, পরিকল্পনাটি কার্যকর করা এবং সবশেষে পরিকল্পনাটিকে পর্যবেক্ষণ করা| একটি আর্থিক পরিকল্পনা গঠনের আগে, বিনিয়োগকারীর প্রয়োজন, পছন্দ এবং মনস্তত্ব বুঝতে তার সাথে পুঙ্খানুপুঙ্খ আলোচনা করা খুবই প্রয়োজন যাতে ছয়টি ধাপকেই কার্যকর করা যায়| এটির সম্বন্ধে আরও বিস্তারিত বুঝতে এই ভিডিওটি দেখুন|

நிதி பற்றி திட்டமிடுதலில் ஆறு முக்கிய நடவடிக்கைகள் உண்டு அவை : நிதி இலக்குகளை உருவாக்கிக் கொள்தல். சம்பந்தப்பட்ட தகுந்த தகவலை திரட்டுதல், சூழல் பற்றி மதிப்பிடுதல், இலக்குகளை அடைவதற்கு திட்டம் வகுத்தல், அந்த திட்டத்தை செயல்படுத்துதல் மற்றும் இறுதியாக அந்த திட்டத்தைக் கண்காணித்தல். நிதி பற்றிய ஒரு திட்டத்தை உருவாக்கும் முன்பு ஒரு முதலீட்டாளர் உடன் அவர்கள் தேவைகளை பற்றி புரிந்து கொள்ள முழுமையாக கலந்துரையாடுவது மிக முக்கியம். அவரது விருப்பங்கள், அவரது மனோநிலை பற்றியும் புரிந்து கொள்வதால் இந்த ஆறு நடிவடிக்கைகளையும் தெளிவாக மேற்கொள்ள முடியும். இது பற்றி கூடுதலாக விபரமாக புரிந்து கொள்ள இந்த வீடியோவைப் பாருங்கள்.