Please wait...

Affluent Clients Needs vs Preferences

‘Hi, I came across this really nice video on the Franklin Templeton website. Check it out!’

While making a recommendation to an affluent client, an advisor has two choices - the first is to establish a need and then recommend a solution that is built around this need. The second is to recommend an investment solution based on the client’s preferences. Which is a better approach? How does one balance the pros and cons of each approach in the best interest of the client? Check out this video to get a better understanding on the approach you should adopt while advising affluent investors.

किसी ऊंची हैसियत वाले क्लाइंट को निवेश संबंधी सलाह देते समय एडवाइजर के सामने दो विकल्प रहते हैं. पहला विकल्प है, ज़रूरत साबित करना और फिर समाधान की सिफारिश करना, जो कि उसकी ज़रूरत के आधार पर हो. और दूसरा विकल्प है क्लाइंट की प्राथमिकताओं के आधार पर निवेश की सिफारिश करना. इनमें से कौन सा तरीका बेहतर है. क्लाइंट के हित को ध्यान में रखते हुए प्रत्येक विकल्प की खामियों और ख़ूबियों को कैसे संतुलित किया जा सकता है? यह वीडियो देखिए और जानिए कि अच्छी हैसियत वाले निवेशकों को सलाह देते समय किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए.

ધનવાન ગ્રાહકને ભલામણ કરતી વખતે સલાહકાર પાસે બે વિકલ્પ હોય છે - સૌ પ્રથમ જરૂરિયાત સ્થાપિત કરવી અને પછી ઉપાય રજુ કરવો જે આ જ‚રિયાત લક્ષી હોય. બીજા વિકલ્પ તરીકે ગ્રાહકની પસંદગીઓ આધારે રોકાણ ઉપાયોની ભલામણ કરી શકાય છે. કયો અભિગમ વધુ સારો છે? ગ્રાહકના શ્રેષ્ઠ હિતમાં દરેક અભિગમના ગુણદોષને કઈ રીતે સંતુલિત કરી શકાય? ધનવાન ગ્રાહકોને સલાહ આપતી વખતે તમારે અપનાવવો જોઈએ એ અભિગમને વધુ સારી રીતે સમજવા આ વીડિયો જોવાનું ચૂકશો નહીં.

একজন সমৃদ্ধশালী ক্লায়েন্টের কাছে একটি সুপারিশ করার সময়, একজন উপদেষ্টার কাছে থাকে দুটি বিকল্প - প্রথমটি হল, একটি প্রয়োজনকে প্রতিষ্ঠা করে সেই প্রয়োজন মেটানোর জন্য একটি সমাধান সুপারিশ করা| দ্বিতীয়টি হল, ক্লায়েন্টের পছন্দ অনুযায়ী একটি বিনিয়োগ সমাধান সুপারিশ করা| কোনটি ভালো পন্থা ? ক্লায়েন্টের উন্নতির জন্য কী করে একজন প্রতিটি পন্থার অনুকূল ও প্রতিকূল দিকগুলির মধ্যে সামঞ্জস্য বজায় রাখবেন| সমৃদ্ধশালী ক্লায়েন্টদের পরামর্শ দেওয়ার সময় আপনি কী পন্থা গ্রহণ করবেন তা আরও ভালো করে বুঝতে এই ভিডিওটি দেখুন|

ஒரு செல்வந்தரான வாடிக்கையாளருக்கு ஒரு பரிந்துரையை செய்யும்போது, ஒரு ஆலோசகருக்கு இரண்டு வழிகள் உண்டு. முதலாவது ஒரு தேவையை நிலைப்படுத்துதல் மற்றும் அதன் பின் ஒரு தீர்வை பரிந்துரைத்தல். இது தேவைக்கு ஏற்ப இருக்க வேண்டும். இரண்டாவது வாடிக்கையாளர்கள் விருப்பங்கள் அடிப்படையில் ஒரு முதலீட்டு தீர்வை பரிந்துரைத்தல். எது சிறப்பான அணுகுமுறை? வாடிக்கையாளின் சிறப்பான நலனுக்கு ஏற்ப ஒவ்வொரு அணுகுமுறையின் சாதக பாதகங்களை ஒருவர் எவ்வாறு சமன்படுத்துவது? எனவே, இத்தகைய செல்வந்தர்களான முதலீட்டாளர்களுக்கு ஆலோசனை வழங்கும்போது, நீங்கள் பின்பற்ற வேண்டிய அணுகுமுறை பற்றி நன்கு புரிந்து கொள்ள இந்த வீடியோவை பாருங்கள்.