Please wait...

What Makes An Investor Choose An Advisor

‘Hi, I came across this really nice video on the Franklin Templeton website. Check it out!’

The most important reason why an investor picks an advisor is “trust”. Trustworthiness is based on three key factors - likeability, integrity and competence. Also, the customer’s level of trust varies on the tasks he believes are the most important. For instance, for some investors choosing an investment product may be more important than executing the transaction, while others may require help only to execute transactions. However, it is the often the likeability factor that forms the basis of trust in an advisor-client relationship. How does one build this trust and likeability? Watch this video to understand investor psyche better.

किसी निवेशक के लिए एडवाइजर को चुनने का सबसे महत्त्वपूर्ण कारण होता है ‘‘ विश्‍वास.’’ यह विश्‍वास या भरोसा तीन चीजों पर निर्भर करता है-पसंद आना, सच्चाई और सक्षमता. साथ ही ग्राहक का यह भरोसा उन बातों के साथ बदलता है जिन्हें वह सबसे महत्त्वपूर्ण मानता है. जैसे कि कुछ निवेशकों के लिए निवेश प्रोडक्ट, ट्रांजेक्शन करने से ज़्यादा महत्त्व होता है लेकिन कुछ निवेशक ट्रांजेक्शन करने को ही प्राथमिकता देते हैं. हालांकि आमतौर पर पसंद आना, वह चीज होती है, जो कि एडवाइजर और क्लाइंट के बीच रिश्ता कायम करता है. तो यह पसंद और विश्‍वास का रिश्ता कैसे बनता है? निवेशक के मनोवैज्ञानिक को बेहतर तरीके से समझने के लिए इस वीडियो को देखिए.

રોકાણકાર સલાહકારને પસંદ કરે છે એનું સૌથી મહત્વનું કારણ છે "વિશ્ર્વાસ’’. વિશ્ર્વસનિયતા મુખ્ય ત્રણ પરિબળો પર આધારિત છે - સૌજન્યતા, પ્રામાણિકતા અને ક્ષમતા. આ ઉપરાંત, ગ્રાહકના વિશ્ર્વાસનું સ્તર તે જેને સૌથી અગત્યના માને છે એ કાર્યો આધારે બદલાય છે. દાખલા તરીકે, કેટલાંક રોકાણકારો માટે ટ્રાન્ઝેક્શન કરવા કરતા ઈન્વેસ્ટમેંટ પ્રોડક્ટ પસંદ કરવો વધુ મહત્વનું હોઈ શકે છે, જ્યારે અન્યોને માત્ર ટ્રાન્ઝેક્શન કરવા જ મદદની જરૂર હોઈ શકે છે. જોકે, સલાહકાર-ગ્રાહકના સંબંધમાં સૌજન્યતાનું પરિબળ જ વિશ્ર્વાસનો પાયો બને છે. આ વિશ્ર્વાસ અને સૌજન્યતા કઈ રીતે કાયમ કરી શકાય? રોકાણકારના માનસને સારી રીતે સમજવા આ વીડિયો જુઓ.

একজন বিনিয়োগকারীর একজন উপদেষ্টাকে নির্বাচন করার সবচেয়ে গুরুত্বপূর্ণ কারণ হল ``আস্থা``| আস্থা নির্ভর করে তিনটি মুখ্য বিষয়ের ওপর - পছন্দ, সততা এবং কর্মদক্ষতা | আবার, যে কাজগুলোকে তিনি সবচেয়ে গুরুত্বপূর্ণ বলে মনে করেন তার ওপর ভিত্তি করে গ্রাহকের আস্থার মাত্রায় তারতম্য ঘটে| উদাহরণস্বরূপ, কিছু বিনিয়োগকারীর কাছে লেনদেন কার্যকর করার থেকে একটি বিনিয়োগ সামগ্রী বেছে দেওয়াটা বেশি গুরুত্বপূর্ণ হতে পারে, আবার অন্যদের ক্ষেত্রে সাহায্য প্রয়োজন হয় শুধুমাত্র লেনদেনটি কার্যকর করার জন্য| যদিও, প্রায়ই দেখা যায় যে উপদেষ্টা-ক্লায়েন্ট সম্পর্কের মধ্যে পছেন্দর ব্যাপারটাই আস্থার ভিত্তি হয়ে দাঁড়ায় | কীভাবে একজন এই আস্থা এবং পছন্দসই হওয়ার যোগ্যতা অর্জন করবেন ? বিনিয়োগকারীর মনস্তত্ব আরও ভালো করে বুঝতে এই ভিডিওটি দেখুন|

ஒரு முதலீட்டாளர் ஒரு ஆலோசகரை ஏன் தேர்ந்தெடுக்கிறார் என்பதற்கு மிக முக்கிய காரணம் அவர் மீது வைக்கும் நம்பிக்கையே. இந்த நம்பிக்கையானது மூன்று முக்கிய காரணங்கள் அடிப்படையிலானது. அது விருப்பம், நேர்மை மற்றும் அவரது தொழில் திறன். அதோடு வாடிக்கையாளர்களின் நம்பிக்கை நிலை, அவர் நம்பும் வேலைகளின் அடிப்படையில் மாறுபடலாம் என்பது மிக முக்கியம். உதாரணமாக சில முதலீட்டாளர்கள் பரிவர்த்தனையை செயல்படுத்துவதை விட ஒரு முதலீட்டு திட்டத்தை தேர்ந்தெடுப்பது மிக முக்கியம் என்று கருதலாம், சிலர் பரிவர்த்தனைகளை மட்டும் செய்ய உதவி தேவைப்படக் கூடியவர்களாக இருக்கலாம். எனினும் ஆலோசகர்- வாடிக்கையாளர் உறவு முறையில் நம்பிக்கை அடிப்படையே விரும்பத்தக்க விஷயமாக பொதுவாக இருக்கும். இந்த நம்பிக்கையையும், விருப்பத்தையும் ஒருவர் உருவாக்கிக் கொள்வது எப்படி? முதலீட்டாளர் மன நிலையை நன்கு புரிந்துகொள்ள, இந்த வீடியோவைப் பாருங்கள்.