Please wait...

Managing Challenges

‘Hi, I came across this really nice video on the Franklin Templeton website. Check it out!’

For any advisor, dealing with a retired client is challenging because the portfolio must be constructed in a manner where the real rate of returns is always positive to protect his portfolio from inflation as well as provide adequate scope for withdrawals. To deal with such challenges to the retirement corpus, some specific strategies may be applied. What are these strategies and how does one adopt them.

रिटायर क्लाइंट को सेवा प्रदान करने वाले एडवाइजर का काम काफी चुनौती भरा होता है, क्योंकि यहां पोर्टफोलियो इस प्रकार बनाना होता है जिससे आमदनी की वास्तविक दर, महंगाई की दर से अधिक हो. यहां पैसा निकालने की पर्याप्त गुंजाइश भी होनी चाहिए. रिटायरमेंट की पूंजी जैसी चुनौतियों से निपटने के लिए, कुछ विशेष रणनीतियां बनानी पड़ सकती है. ये रणनीतियां क्या है उन्हें कैसे अपनाया जा सकता है.

કોઈપણ સલાહકાર માટે નિવૃત્ત ગ્રાહક સાથે વ્યવહાર કરવો એ પડકાર‚પ છે કારણ કે પોર્ટફોલિયો એ રીતે બનાવવો જરૂરી છે જેથી તેમના પોર્ટફોલિયોને ફુગાવાથી સુરક્ષિત રાખવા તેમ જ ઉપાડ માટે પૂરતી સંભાવના પૂરી પાડવા વળતરનો વાસ્તવિક દર હંમેશા સકારાત્મક રહે. રિટાયરમેંટ કોર્પસના આવા પડકારોનો સામનો કરવા કેટલીક વિશિષ્ટ નીતિઓ અપનાવી શકાય છે. આ નીતિઓ શું છે અને તે કઈ રીતે અપનાવી શકાય.

যে কোনও উপদেষ্টার জন্য, একজন অবসরপ্রাপ্ত ক্লায়েন্ট সবসময়ই চ্যালেঞ্জিং কারণ পোর্টফোলিওটি এমনভাবে তৈরি করতে হবে যেখানে মুদ্রাস্ফীতি থেকে পোর্টফোলিওটিকে সুরক্ষা দিতে এবং টাকা তোলার পর্যাপ্ত সুযোগ করে দিতে ফেরতের বাস্তবিক হার সবসময়ই থাকবে পজিটিভ| অবসর উদ্বৃত্তের চ্যালেঞ্জের মোকাবিলা করার জন্য, কিছু নির্দিষ্ট কৌশল প্রয়োগ করা যেতে পারে| এই কৌশলগুলি কী কী এবং কীভাবে একজন সেগুলি গ্রহণ করবেন?

எந்த ஒரு ஆலோசகருக்கும் ஓய்வு பெற்றோரில் ஒரு வாடிக்கையாளர் உடன் விஷயங்களை கையாள்தல் சவாலானது. ஏனெனில் அவருக்கான போர்ட்ஃபோலியோ எப்போதுமே பண வீக்கத்தை சமாளிப்பதுடன், நல்ல வருமானங்களை அளிப்பதோடு அவருக்கு போதிய அளவில் பணம் எடுக்கும் வசதியும் கிடைக்குமாறு செய்யப்பட வேண்டும். ஓய்வுக்கால பணத்திரட்டுக்காக இத்தகைய சவால்களை சமாளித்திட ஒரு சில திட்ட முறைகள் பயன்படுத்தப்படலாம். இந்த திட்ட முறைகள் என்பவை என்ன மற்றும் ஒருவர் இவற்றைப் பின்பற்றுவது எப்படி?