Please wait...

Strategic vs Tactical Asset Allocation

‘Hi, I came across this really nice video on the Franklin Templeton website. Check it out!’

In order to determine an appropriate asset allocation strategy, two essential approaches are taken into consideration, viz., strategic and tactical asset allocation. Strategic allocation is long term asset allocation while tactical asset allocation is a deviation from this long term allocation. Strategic allocation is commensurate to the investor’s risk profile and financial goals while tactical asset allocation is more in sync with the external factors. Learn more about the fundamental differences between these two approaches in this video.

उचित एसेट आबंटन के लिए दो आवश्यक दृष्टिकोणों को ध्यान में रखा जाता है. रणनीति और सूझबूझ के साथ एसेट आबंटन. रणनीति के आथ आबंटन लंबी अवधि के लिए एसेट आबंटन है, जबकि सूझबूझ के साथ एसेट आबंटन लंबी अवधि के आबंटन से अलग राह चुनना है. रणनीति के साथ आबंटन में निवेशक के जोखिम स्वरूप और आर्थिक लक्ष्यों पर ध्यान दिया जाता है. लेकिन सूझ-बूझ के साथ एसेट आबंटन में बाहरी घटकों पर ज़्यादा ध्यान रखा जाता है. इन दोनों तरीकों के बीच के बुनियादी फ़र्क को समझने के लिए यह वीडियो देखिए.

યોગ્ય અસ્ક્યામત ફાળવણી નીતિ નિર્ધારિત કરવા બે આવશ્યક અભિગમો ધ્યાનમાં લેવામાં આવે છે એટલે કે સ્ટ્રેટેજીક અને ટેક્ટિકલ અસ્ક્યામત ફાળવણી. સ્ટ્રેટેજીક ફાળવણી એ લાંબા ગાળાની અસ્ક્યામત ફાળવણી છે જ્યારે ટેક્ટિકલ અસ્ક્યામત ફાળવણી આ લાંબા ગાળાની ફાળવણીથી અલગ છે. સ્ટ્રેટેજીક ફાળવણી રોકાણકારની જોખમ ક્ષમતા અને આર્થિક હેતુઓને સુસંગત રહે છે જ્યારે ટેક્ટિકલ અસ્ક્યામત ફાળવણી વધુ કરીને બાહ્ય પરિબળોને સુસંગત રહે છે. આ બે અભિગમો વચ્ચે રહેલા મૂળભુત તફાવતો વિશે આ વીડિયોમાં વધુ જાણો.

একটি উপযুক্ত সম্পদ বরাদ্দ কৌশল অবলম্বন করতে গেলে, দুটি গুরুত্বপূর্ণ পদ্ধতি বিবেচনা করা হয়, যেমন কৌশলগত এবং কৌশলী সম্পদ বরাদ্দ । কৌশলগত বরাদ্দ হল দীর্ঘমেয়াদী সম্পদ বরাদ্দ, যখন কৌশলী সম্পদ বরাদ্দ হল এই দীর্ঘ মেয়াদ থেকে সরে আসা| কৌশলগত বরাদ্দ বিনিয়োগকারীর রিস্কˆ প্রোফাইল ও আর্থিক লক্ষ্যের সমানুপাতিক এবং কৌশলী সম্পদ বরাদ্দ বহিরাগত বিষয়গুলির সঙ্গে বেশি সুসংগত| এই দুটি পদ্ধতির মধ্যের মৌলিক পার্থক্যগুলি সমন্ধে আরও জানুন এই ভিডিওটিতে|

ஒரு தகுந்த சொத்து ஒதுக்கீடு திட்ட முறையைத் தீர்மானிக்க, இரண்டு மிக முக்கிய அணுகுமுறைகள் கருத்தில் கொள்ளப்பட வேண்டும். அவை திட்ட முறை ஒதுக்கீடு மற்றும் சாதுர்யமான சொத்து ஒதுக்கீடு. திட்ட முறை ஒதுக்கீடு என்பது நீண்டகால சொத்து ஒதுக்கீடு. ஆனால், சாதுர்யமான சொத்து ஒதுக்கீடு என்பது இந்த நீண்டகால ஒதுக்கீட்டில் இருந்து ஒரு சிறிதளவு மாறும் முறை. திட்ட முறை ஒதுக்கீடு என்பது முதலீட்டாளரின் ரிஸ்க் எடுக்கும் அளவை மற்றும் நிதி சார்ந்த இலக்குகளைப் பொறுத்தது. அதே˜வேளையில் சாதுர்யமான சொத்து ஒதுக்கீடு என்பது வெளிப்புற காரணிகளையே அதிகம் சார்ந்தது. இந்த வீடியோவில் இந்த இரண்டு அணுகுமுறைகளுக்கும் இடையில் உள்ள அடிப்படை வித்தியாசங்களைப் பற்றி அதிகம் அறியுங்கள்.