Please wait...

Returns On Debt Instruments

‘Hi, I came across this really nice video on the Franklin Templeton website. Check it out!’

For an investment advisor to successfully advise on debt instruments and debt funds, it is important for him to accurately calculate returns in term of YTM or yield to maturity across various instruments, know what price is to be paid on a bond and estimate potential return from a fund. Calculating the yield (less of expenses) is a good starting point to estimate potential returns from the fund that can be calculated by using Excel functions such as RATE and PV. Differences in the YTM between various debt instruments or debt funds can be explained based on three factors. What are these three factors?

डेट इंस्ट्रूमेन्ट्स और डेट फ़ंड्स पर सही सलाह देने के लिए निवेश सलाहकार को विभिन्न इंस्ट्रूमेन्ट्स पर YTM यानी परिपक्वता पर अर्जन की सही गणना करने में सक्षम होना चाहिए. उसे यह पता होना चाहिए कि किसी बॉण्ड के लिए कितनी कीमत देनी होगी और फ़ंड से कितनी अनुमानित आमदनी मिल सकती है. फ़ंड से मिलने वाली अनुमादित आमदनी की गणना करने के लिए अर्जन (व्यय को घटाकर) की गणना करना एक अच्छा शुरूआती कदम है. इसकी गणना एक्सल फंक्शन्स जैसे कि RATE और PV से कर सकते हैं. विभिन्न डेट इंस्ट्रूमेन्ट्स का डेट फ़ंड्स के बीच YTM में फ़र्क को इन तीन घटकों के आधार पर समझाया जा सकता है? ये तीन घटक क्या हैं?

રોકાણ સલાહકારે ડેબ્ટ ઈન્સ્ટ્રૂમેંટ્સ અને ડેબ્ટ ફંડ્સ વિશે સફળ સલાહ આપવા તેણે વિવિધ ઈન્સ્ટ્રૂમેંટ્સ પર વાયટીએમ અથવા યીલ્ડ ટુ મેચ્યોરિટી સંદર્ભે વળતરની સચોટ ગણતરી કરવી, બૉન્ડ પર કેટલી કિંમત ચૂકવવાની છે તેમ જ ફંડ માંથી અંદાજિત શક્ય વળતર કેટલું છે તે જાણવું મહત્વનું છે. ફંડ માંથી સંભાવિત વળતરનો અંદાજ મેળવવા યીલ્ડ (ખર્ચ બાદ કરીને)ની ગણતરી કરવી એ સારી શરૂઆત છે, જે રેટ અને પીવી જેવાં એક્સેલ ફંક્શનનો ઉપયોગ કરીને ગણતરી કરી શકાય છે. વિવિધ ડેબ્ટ ઈન્સ્ટ્રૂમેંટ્સ અને ડેબ્ટ ફંડ્સ વચ્ચે વાયટીએમમાં તફાવત ત્રણ પરિબળો આધારે સમજાવી શકાય છે. આ ત્રણ પરિબળો કયા છે?

ডেট ইনস্ট্রুমেন্ট ও ডেট ফান্ড নিয়ে সফলতার সঙ্গে পরামর্শ দিতে গেলে, বিভিন্ন ইনস্ট্রুমেন্টের ক্ষেত্রে ওয়াইটিএম বা ইল্ড টু ম্যাচিওরিটি অনুসারে ফেরতের সঠিক গণনা করা, একটি বন্ডের জন্য কী মূল্য দিতে হবে তা জানা এবং একটি ফান্ডের থেকে সম্ভাব্য ফেরতের গণনা করা একজন বিনিয়োগ উপদেষ্টার জন্য খুবই গুরুত্বপূর্ণ| ফেরতের গণনা (ব্যয় ব্যতীত) করা হল ফান্ড থেকে সম্ভাব্য ফেরতের হিসেব করার একটি উত্তম সূচনা, যা করা সম্ভব এক্সেল-এর রেট এবং পিভি-র মতো ফাংশন ব্যবহার করে| বিভিন্ন ডেট ইনস্ট্রুমেন্ট অথবা ডেট ফান্ডের মধ্যে ওয়াইটিএম-এর পার্থক্য তিনটি বিষয়ের ওপর নির্ভর করে| এই তিনটি বিষয় কী কী?

கடன் பத்திரங்கள் மற்றும் டெப்ட் ஃபண்ட்கள் பற்றி மிகச் சரியாக ஆலோசனை அளித்திட ஒரு முதலீட்டு ஆலோசகர் பல்வேறு பத்திரங்களின் முதிர்வின்போது அவை அளிக்கும் வட்டி அல்லது லாபம் மீதான வருமானங்களை துல்லியமாக கணக்கிடுதல், ஒரு பாண்டுக்கு என்ன விலை செலுத்தப்படுகிறது மற்றும் ஃபண்டிலிருந்து கிடைக்கக்கூடிய வருமானங்களை மதிப்பிடுதல் போன்றவற்றை நன்கு தெரிந்து கொள்வது மிக அவசியம். வருமானத்தை கணக்கிடுதல் (செலவுகள் நீங்கலாக) ஃபண்டிலிருந்து கிடைக்கக் கூடிய வருமானங்களை திட்டமிட ஒரு சிறப்பான ஆரம்ப நிலை. இதை ரேட் மற்றும் பிவி போன்ற எக்ஸெல் இயக்கங்களை பயன்படுத்தி எளிதில் கணக்கிட முடியும் பல்வேறு கடன் பத்திரங்கள் அல்லது டெப்ட் ஃபண்ட்களில் இருந்து கிடைக்கும் முதிர்வுகால வருமானங்களில் வித்தியாசங்களை மூன்று காரணிகள் அடிப்படையில் விளக்க முடியும். இந்த மூன்று காரணிகள் என்பவை எவை?