Please wait...

The World Of Debt Instruments

‘Hi, I came across this really nice video on the Franklin Templeton website. Check it out!’

Debt instruments are investment options where the investor puts in his money for two major reasons -assurance of income and protection of capital. Debt instruments can broadly be categorised under two heads - those with a maturity of less than one year that are called money market instruments and those with a maturity of one year or more that are called bonds. While most debt instruments are not directly accessible to the retail investor, he can get access to such instruments by investing in a wide range of debt mutual funds. In this video we take you through the nuts and bolts of debt instruments and familiarise you with the key terminology used in the debt or fixed income world.

डेट इंस्ट्रूमेन्ट्स, निवेश के ऐसे विकल्प हैं जहां निवेशक अपने पैसों का निवेश दो मुख्य कारणों से करता है- एक, आमदनी का आश्‍वासन और दूसरा, पूंजी की सुरक्षा. डेट इंस्ट्रूमेन्ट्स को मोटे तौर पर दो शीर्षों के अंतर्गत वर्गीकृत किया जा सकता है- जिनकी परिपक्वता की अवधि एक वर्ष से कम होती है उन्हें मनी मार्केट इंस्ट्रूमेन्ट्स कहते हैं और जिनकी परिपक्वता की अवधि एक वर्ष या अधिक होती है, उन्हें बॉण्ड्स कहते हैं. हालांकि ज़्यादातर डेट इंस्ट्रूमेन्ट्स तक रीटेल निवेशकों की सीधी पहुंच नहीं होती है, लेकिन वह डेट म्यूच्युअल फ़ंड्स की व्यापक रेंज में निवेश करके इन इंस्ट्रूमेन्ट्स तक पहुंच प्राप्त कर सकते हैं. इस वीडियो में हम आपको डेट इंस्ट्रूमेन्ट्स की बारीकियों के बारे में बताएंगे और डेट या निश्‍चित आमदनी के निवेशों में इस्तेमाल होने वाली शब्दावली की भी जानकारी देंगे.

ડેબ્ટ ઈન્સ્ટ્રૂમેંટ્સ એ રોકાણ વિકલ્પો છે જેમાં રોકાણકાર બે મુખ્ય કારણોસર તેનાં પૈસાનું રોકાણ કરે છે - આવકની બાંયધરી અને મૂડીની સુરક્ષા. ડેબ્ટ ઈન્સ્ટ્રૂમેંટ્સને મુખ્યત્વે બે વિભાગમાં વર્ગીકૃત કરી શકાય છે - એક વર્ષ કરતા ઓછી પરિપક્વતા ધરાવતા જેને મની માર્કેટ ઈન્સ્ટ્રૂમેંટ્સ કહેવાય છે અને એ જે એક વર્ષ અથવા વધુની પરિપક્વતા ધરાવે છે જેને બૉન્ડ્સ કહેવાય છે. મોટાં ભાગનાં ડેબ્ટ ઈન્સ્ટ્રૂમેંટ્સ રિટેલ રોકાણકારને સીધા જ ઉપલબ્ધ નથી હોતા ત્યારે તેઓ ડેબ્ટ મ્યુચ્યુઅલ ફંડ્સની વ્યાપક શ્રેણીમાં રોકાણ કરીને આવા ઈન્સ્ટ્રૂમેંટ્સની પહોંચ મેળવી શકે છે. આ વીડિયોમાં અમે તમને ડેબ્ટ ઈન્સ્ટ્રૂમેંટ્સની રજે રજ માહિતી આપવા સાથે ડેબ્ટ અથવા ફિક્સ્ડ ઈન્કમની દુનિયામાં વપરાતી મુખ્ય ટર્મિનોલૉજીથી પણ પરિચિત કરાવશું.

ডেট ইনস্ট্রুমেন্ট হল একটি বিনিয়োগ বিকল্প যেখানে বিনিয়োগকারী দুটি মুখ্য কারণে নিজের অর্থ বিনিয়োগ করেন - আয়ের নিশ্চয়তা ও মূলধনের সুরক্ষা| ডেট ইনস্ট্রুমেন্টকে দুটি বিস্তারিত শ্রেণীতে ভাগ করা যায় - যেগুলি এক বছরের কম ম্যাচিওরিটির হয়, সেগুলিকে বলা হয় মানি মার্কেট ইনস্ট্রুমেন্ট এবং যেগুলি এক বছর বা তার অধিক ম্যাচিওরিটির হয়, সেগুলিকে বলে বন্ড । বেশির ভাগ ডেট ইনস্ট্রুমেন্ট খুচরো বিনিয়োগকারীর কাছে সহজে সুলভ নয়, তিনি সেটাতে প্রবেশ করতে পারেন ডেট মিউচুয়াল ফান্ডের একটি প্রশস্ত বিস্তারের ওপর বিনিয়োগ করে| এই ভিডিওটির মাধ্যমে আমরা আপনাকে নিয়ে যাব ডেট ইনস্ট্রুমেন্টের খুঁটিনাটির মধ্যে দিয়ে এবং ডেট অথবা স্থায়ী আয় দুনিয়ায় ব্যবহত মুখ্য পরিভাষার সঙ্গে আপনাদের পরিচয় করাব|

ஒரு முதலீட்டாளர் அவரது பணத்தை இரண்டு முக்கிய காரணங்களுக்காக அதாவது வருமானத்துக்கான உறுதி மற்றும் மூலதன பாதுகாப்புக்கு என முதலீடு செய்கிறார். இவையே கடன் பத்திரங்கள் எனும் முதலீட்டு வாய்ப்புகள். கடன் பத்திரங்களை இரண்டு வகைகளாக விரிவாக வகைப்படுத்த முடியும். ஒரு ஆண்டுக்கு குறைவான முதிர்வு காலவரம்புள்ள கடன்பத்திரங்கள் மணி மார்க்கெட் பத்திரங்கள் என அழைக்கப்படுகின்றன. அதேபோல் ஒரு ஆண்டு அல்லது அதற்கு மேற்பட்ட முதிர்வு கால வரம்புள்ள பத்திரங்கள் பாண்டுகள் என அழைக்கப்படுகின்றன. பெரும்பாலான கடன் பத்திரங்கள் சிறு முதலீட்டாளருக்கு நேரடியாக தொடர்பில்லாதவை என்றாலும் அவர் டெப்ட் மியூச்சுவல் ஃபண்ட்களில் முதலீடு செய்வதன் மூலம் இந்த பத்திரங்களை அணுக முடியும். இந்த வீடியோவில் நாங்கள் கடன் பத்திரங்களின் சிக்கல்கள், நன்மைகள் பற்றி உங்களுக்கு விளக்குவதோடு கடன் அல்லது நிலையான வருமானம் தரும் சூழலில் பயன்படுத்தப்படும் முக்கிய வார்த்தைகளையும் உங்களுக்கு விளக்கி பழக்கப்படுத்துகிறோம்.