Please wait...

5Ps Of Equity Fund Selection

‘Hi, I came across this really nice video on the Franklin Templeton website. Check it out!’

In order to make a prudent fund selection, only past performance analysis may not be enough but there is a need to adopt a combination of qualitative and quantitative fund analysis. To simplify the process of fund selection, we suggest a 5P approach - People, Philosophy, Process, Portfolio and Performance. The first three P’s should form the first screen or filter for fund selection. This should be followed by the next 2 P’s. Take a look at this video to understand how each P can be significant to the fund selection process, the questions you must ask at each stage and other factors that you should bear in mind while making a fund selection.

सूझ-बूझ के साथ फ़ंड चुनने के लिए, केवल पिछली कार्यकुशलता का विश्‍लेषण काफी नहीं होता है, बल्कि यहां क्वॉलिटी तथा क्वॉन्टिटी के कॉम्बिनेशन का फ़ंड विश्‍लेषण अपनाना चाहिए. फ़ंड चुनने की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए हम ५P नज़रिया अपनाने का सुझाव देते हैं- People, Philosophy, Process, Portfolio और Performance. पहले तीन P का इस्तेमाल फ़ंड छांटने के लिए पहले कदम के रूप में करना चाहिए और उसके बाद अगले २P की मदद से उसे अंतिम रूप देना चाहिए. अब इस वीडियो को ध्यान से देखिए और जानिए कि किस प्रकार प्रत्येक P, फ़ंड चयन में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है. इसमें उन प्रश्‍नों और घटकों का भी जिक्र किया गया है जो आपको फ़ंड चुनते समय हर कदम पर याद रखने चाहिए.

ફંડની સમજદારી ભરી પસંદગી કરવા માત્ર ભૂતકાળની કામગીરીનું વિશ્લેષણ પૂરતું ન પણ હોઈ શકે પરંતુ ફંડ વિશ્લેષણ માટે ક્વાલિટેટિવ અને ક્વાન્ટિટેટિવ સંયોજન અપનાવવું જરૂરી છે. ફંડ પસંદગીની પ્રક્રિયાને સરળ બનાવવા અમે ૫પી નો અભિગમ સૂચવીએ છીએ, આ ૫પી છે - પીપલ, ફિલોસોફી, પ્રોસેસ, પોર્ટફોલિયો અને પર્ફોર્મન્સ. પહેલા ત્રણ પી ફંડની પસંદગી માટેનું પહેલું આવરણ અથવા ફિલ્ટર બને છે. જેના પછી છેલ્લા ૨પી નુંપાલન કરવું જોઈએ. ફંડ પસંદગીની પ્રક્રિયામાં આ દરેક પી કઈ રીતે મહત્વના બની શકે છે, દરેક તબક્કે તમારે પૂછવા જરૂરી પ્રશ્ર્નો તેમ જ ફંડની પસંદગી કરતી વખતે તમારે ધ્યાનમાં રાખવા જરૂરી પરિબળો વિશે સમજવા આ વીડિયો જુઓ.

একটি বিচক্ষণ ফান্ড বাছাই করার জন্য, শুধুমাত্র বিগত কর্মক্ষমতার বিশ্লেষণই যথেষ্ট নাও হতে পারে, গুণগত ও পরিমাণগত ফান্ড বিশ্লেষণের মিশ্রণও গ্রহণ করা প্রয়োজন| ফান্ড বাছাই করার প্রক্রিয়াটি সহজ করার জন্য, আমাদের পরামর্শ একটি ৫পি প্রক্রিয়া - পিপল, ফিলোজফি, প্রসেস, পোর্টফোলিও এবং পারফর্মেন্স| প্রথম তিনটি পি নিয়ে হওয়া উচিত ফান্ড বাছাইয়ের প্রথম স্ক্রিন অথবা ফিল্টার| এরপর আসবে পরের দুটি পি | এই ভিডিও দেখে বুঝুন যে ফান্ড বাছাইয়ের ক্ষেত্রে প্রতিটি পি কী করে হয়ে উঠতে পারে উল্লেখযোগ্য, প্রতিটি স্টেজে আপনাকে কী কী প্রশ্ন অবশ্যই করতে হবে এবং ফান্ড বাছাইয়ের সময় আপনার মনে অন্যান্য কী কী বিষয় থাকবে|

நன்கு சிந்தித்து ஒரு ஃபண்டை தேர்ந்தெடுக்கும்போது அந்த ஃபண்ட் பற்றிய கடந்தகால செயல்திறன் பகுப்பாய்வு மட்டுமே போதுமானதாக இல்லாமல் இருக்கலாம். ஆனால், தரம் மற்றும் அளவு பற்றிய கூட்டு மதிப்பீடை புரிந்து கொள்வதும் அவசியமாகும். எனவே ஃபண்ட் தேர்வு செயல்முறையை எளிதாக்கிட நாங்கள் பரிந்துரைப்பது பின்வரும் 5 அம்சங்கள் அவை: மக்கள், கொள்கை, செயல்முறை ஃபோர்ட் போலியோ மற்றும் செயல்திறன். இதில் முதல் மூன்று அம்சங்கள் ஃபண்டை தேர்ந்தெடுப்பதற்காக முதலில் நன்கு கணிக்கப்பட வேண்டியவை அதோடு அடுத்த இரண்டு அம்சங்கள் பின்னர் பரிசீலிக்கப்பட்டு முடிவெடுக்கப்பட வேண்டும். ஒரு ஃபண்டை தேர்ந்தெடுக்கும்போது மேற்குறிப்பிட்ட ஒவ்வொரு அம்சமும் எந்த அளவு குறிப்பிடத்தக்கது என்பதை புரிந்து கொள்ளவும் மற்றும் ஒவ்வொரு நிலையிலும் நீங்களே சிந்தித்து அறிய வேண்டிய காரணிகளையும் மற்றும் இதர விஷயங்களையும் நன்கு புரிந்து கொள்ள இந்த வீடியோவை பாருங்கள்.