Please wait...

Difference Between Saving And Investing

‘Hi, I came across this really nice video on the Franklin Templeton website. Check it out!’

A hard working individual who is earning a decent income in today’s date, is judicious about his expenses and even manages to put away 20% of his income. He may be content with himself because he is saving money, but he will be none the richer by his retirement age if he lets this money lie idle without earning any returns. To meet specific goals like children’s education, marriage or ensuring a comfortable retirement, one needs to put this money saved to good use over a period of time in a patient and disciplined manner. The process of doing so, is called investing. Through several examples we take a closer look at the fundamental difference between saving and investing and why you must focus on investing rather than let your money sit idle.

एक मेहनती नौजवान जो आज अच्छी आमदनी कमा रहा है, सोच-विचार कर खर्च करता है और अपनी आमदनी का २०% तक बचा भी लेता है, वह शायद यह सोचकर संतुष्ट हो कि वह पैसा बचा रहा है. मगर सच्चाई यह है कि अगर उसका पैसा बेकार पड़ा रहता है और कोई आमदनी नहीं कमाता है, तो वह नौजवान रिटायरमेन्ट तक अमीर बिल्कुल नहीं बन सकता है. अपने जीवन के विशेष लक्ष्यों जैसे कि बच्चों की शिक्षा, उनकी शादी या अपने लिए आरामदायक रिटायरमेन्ट सुनिश्‍चित करने के लिए आपको मेहनत से बचायी गई अपनी पूंजी का धैर्य और अनुशासित तरीके से एक लंबी अवधि के लिए सही तरीके से नियोजित करना होगा. इस प्रक्रिया को निवेश कहते हैं. कई उदाहरणों से हम बचत करने और निवेश करने के बीच के बुनियादी फ़र्क को समझ सकते हैं और जान सकते हैं कि अपने पैसे को बेकार पड़े रहने देने के बदले आपको क्यों उसे निवेश करना चाहिए.

સખત મહેનત કરતી વ્યક્તિ જે આજની તારીખે સારી એવી આવક મેળવે છે તે તેના ખર્ચાઓ બાબતે ન્યાયોચિત રહે છે અને તેની આવકના ૨૦% અલગ પણ ફાળવે છે. તે પૈસાની બચત કરે છે એટલે સંતુષ્ટ હોઈ શકે છે પરંતુ જો તે આ પૈસાને કોઈ વળતર મેળવ્યા વગર રાખી મૂકે છે તો તેની નિવૃત્ત થવાની ઉંમર સુધીમાં તે ધનવાન નહીં બની શકે. વિશિષ્ટ હેતુઓ જેમ કે બાળકનું શિક્ષણ, લગ્ન અથવા આરામદાયક નિવૃત્તિને સાકાર કરવા વ્યક્તિએ નિશ્ર્ચિત સમય સુધી ધીરજ અને શિસ્તબદ્ધ રીતે બચત કરવી જરૂરી છે. આ માટેની પ્રક્રિયાને જ રોકાણ કરવું કહેવાય છે. અનેક દૃષ્ટાંતો દ્વારા આપણે બચત અને રોકાણ વચ્ચેના મૂળભુત તફાવતને સમજીશું અને તમારે તમારા પૈસા એમનેમ રાખી મૂકવા કરતા રોકાણ પર શા માટે ધ્યાન આપવું જોઈએ તે જોઈશું.

আজকের দিনে যথেষ্ট আয় করা একজন কর্মঠ ব্যক্তি, ব্যয় সমন্ধে খুবই ওয়াকিবহাল থাকেন এবং তার আয়ের ২০% সরিয়ে রাখতে সমর্থ হন| তিনি নিজের প্রতি হয়তো সন্তুষ্ট কারণ তিনি অর্থ সঞ্চয় করছেন, কিন্তু যদি তিনি তার অর্থকে না খাটিয়ে অলসভাবে পড়ে থাকতে দেন তাহলে অবসরের বয়সে পৌঁছে তিনি কোনোমতেই ধনবান হবেন না| সন্তানদের লেখাপড়া, বিবাহ বা একটি সুখময় অবসরযাপন সুনিশ্চিত করার মতো কিছু নির্দিষ্ট লক্ষ্যপূরণ করার জন্য একজনের প্রয়োজন অর্থকে ভালোভাবে ব্যবহার করে একটি সময়সীমার জন্য ধৈর্য এবং নিয়মানুবর্তিতার সঙ্গে সঞ্চয় করা| একেই বলে বিনিয়োগ| সঞ্চয় আর বিনিয়োগের মধ্যে মৌলিক পার্থক্যগুলি এবং কেন আপনি আপনার অর্থকে অলসভাবে ফেলে না রেখে বিনিয়োগের উপর জোর দেবেন, তার প্রতি আমরা মনোযোগ দেব|

தற்போதைய காலத்தில் கடினமாக பாடுபட்டு, தக்க வருமானம் பெறும் ஒரு நபர், தனது செலவுகள் போக வருமானத்தில் 20% வரை மிச்சப்படுத்த முடியும். அவர் மிச்சப்படுத்தும் பணத்தை சேமித்து வைப்பதால் திருப்தி அடையலாம். ஆனால் இந்த பணம் எந்த வித வருமானங்களையும் சம்பாதிக்காமல், அப்படியே இருக்குமாறு விட்டுவிட்டால் அவரது ஓய்வுக் காலத்தில் அவர் ஒன்றும் பணக்காரர் ஆகி விட முடியாது. குழந்தைகளின் கல்வி, திருமணம் போன்ற குறிப்பான வாழ்வு இலக்குகளை பூர்த்தி செய்ய அல்லது வசதியான ஓய்வுக் காலத்தை உறுதி செய்ய ஒவ்வொரு நபரும் பொறுமையாக மற்றும் ஒழுங்கு முறைப்படுத்தப்பட்ட விதத்தில், ஒரு குறிப்பிட்ட காலத்திற்கு முறையாக பணத்தை சேமிக்க வேண்டும். இவ்வாறு செய்வதே முதலீடு எனப்படுகிறது. நாங்கள் பலவித உதாரணங்கள் மூலம் சேமிப்புக்கும் முதலீட்டுக்கும் இடையே உள்ள அடிப்படை வித்தியாசத்தை பற்றி உங்களுக்கு புரியும்படி கூறுவோம் மற்றும் உங்கள் பணம் அப்படியே இருக்காமல் அதை முறையாக முதலீடு செய்வதில் நீங்கள் ஏன் கவனம் செலுத்த வேண்டும் என்பதையும் விளக்குவோம்.