Please wait...

Time vs. Timing

‘Hi, I came across this really nice video on the Franklin Templeton website. Check it out!’

Investments in equity markets are generally made to meet long term goals such as your child’s education or saving for your retirement, among others. However, it is often felt that there is more money to be made by ‘timing’ the market instead of staying invested for long. Which is right - ‘time’ or ‘timing’? Take a look at this short video to know the answer.

इक्विटी मार्केट्स में निवेश आमतौर पर लंबी अवधि के लक्ष्यों को पूरा करने के लिए किए जाते हैं जैसे कि आपके बच्चे की शिक्षा या आपके रिटायरमेन्ट के लिए. लेकिन अक्सर यह माना जाता है कि ज़्यादा पैसा बनाने के लिए मार्केट में लंबे समय तक निवेशित रहने से बचाए, सही समय पर निवेश करना चाहिए. तो सही क्या है सही समय या समय देना? आप ये छोटा सा वीडियो देखिए, आपको जवाब मिल जाएगा.

ઈક્વિટી માર્કેટ્સમાં કરાતા રોકાણો સામાન્ય રીતે બાળકનું શિક્ષણ અથવા તમારી નિવૃત્તિ માટે બચત અને એવા અનેક લાંબા ગાળાના હેતુઓ માટે જ કરવામાં આવે છે. જોકે, ઘણું ખરું એવું અનુભવવામાં આવે છે કે લાંબા સમય સુધી રોકાણ જાળવી રાખવા કરતા માર્કેટને ‘ટાઈમિંગ’ કરીને વધુ પૈસા બનાવી શકાય છે. શું યોગ્ય છે ‘ટાઈમ’ અથવા ‘ટાઈમિંગ’? જવાબ મેળવવા આ ટૂંકો વીડિયો જુઓ.

ইক্যুয়িটি-র বাজারে বিনিয়োগ সাধারণত দীর্ঘকালীন লক্ষ্যপূরণ করতে করা হয়ে থাকে যেমন আপনার সন্তানের লেখাপড়া অথবা আপনার অবসর জীবনের জন্য সঞ্চয়ের মতো অনেক কিছুতে| যদিও, প্রায়শই মনে করা হয় যে দীর্ঘ সময়ের জন্য বিনিয়োগকৃত না থেকে সঠিক সময়জ্ঞান দ্বারা বেশি অর্থ করা যায়| কোনটা ঠিক - `সময়` না `সময়জ্ঞান`? উত্তরটি জানতে এই ছোট ভিডিওটি দেখুন|

உங்கள் குழந்தையின் கல்வி அல்லது உங்கள் ஓய்வுக்காலத்திற்காக சேமித்தல் போன்ற நீண்ட கால இலக்குகளை பூர்த்தி செய்ய, பொதுவாக பங்குச் சந்தைகளில் பணம் முதலீடு செய்யப்படுகிறது. எனினும், நீண்டகாலம் முதலீடு செய்வதற்கு பதிலாக, சந்தையின் போக்கை பற்றி கணித்து முதலீடு செய்வதால், அதிக பணம் சம்பாதிக்கலாம் என்றும் பலரிடம் பரவலாக ஒரு கருத்து இருக்கிறது. இதில் எது சரி? காலவரம்பா அல்லது கணித்துச் செயல்படுதலா? இதற்கான பதில் இந்த சிறிய வீடியோவில் இருக்கிறது.